रोहतक। चीन में फैले कोरोना वायरस के चलते बाजार में चाइनीज आइटमों की बिक्री में काफी कमी आई है। इसका असर रोहतक के बाजार पर भी देखने को मिल रहा है। कोरोना के अलावा इसका सबसे बड़ा कारण प्रधानमंत्री का स्वदेशी वस्तुओं का इस्तेमाल करने को लेकर आह्वान भी है। जबसे उन्होंने लोगों को स्वदेशी वस्तुओ के इस्तेमाल को लेकर सन्देश दिया है तब से चाइनीज माल बेचने वाले दुकानदारों की नींद उड़ गई है और वे फटाफट अपना माल निकाल देना चाहते हैं। ऑनलाइन स्वदेशी मेला में भी लगातार अभियान चलाये जाने के चलते चायनीज आयटम लेने वाले बड़े कारोबारी और सीधे दिल्ली से माल लाने वाले कारोबारी अभी नए आर्डर लेने से कतरा रहे हैं। चाइनीज सामान की बिक्री से जुड़े दुकानदारों और व्यापारियों के मन में भय बढ़ गया है। रोहतक में तो चाइनीज सामानों के रेट कम कर दिए। फिलहाल डेढ़ गुना तक यहां रेट कम किए गए हैं। 22 मार्च से लॉकडाउन शुरू हुआ था। लॉकडाउन-4 के आने तक ढील भी मिली। हालांकि लॉकडाउन-3 तक लोग घरों में रहे। दुकानदारों ने चुपके से इंडोर गेम से जुड़े चाइनीज सामान कैरम बोर्ड, बैडमिंटन, लूडो, उछलने वाली रस्सी आदि को बेच दिया। अब बाजार में इन सामानों की भारी कमी है। कुछ दुकानदार को दावा कर रहे हैं कि आर्डर के बावजूद सामान नहीं मिल पा रहा
।रोहतक का पालिका बाजार इलेक्ट्रोनिक सामान, मोबाइल, मोबाइल रिपेयरिंग, मोबाइल के पार्ट आदि सामान की बिक्री का रोहतक में सबसे बड़ा केंद्र हैं। छोटूराम चौक के निकट, दिल्ली रोड, सोनीपत रोड पर करीब 1000-1200 तक मोबाइल व इलेक्ट्रोनिक सामान बिक्री की दुकानें हैं। इनमें ज्यादातर स्थानों पर चाइनीज सामान हैं। कुछ मोबाइल की दुकानों के संचालक सोशल मीडिया पर मैसेज भेजकर ग्राहकों को चाइनीज सामान खरीदने के लिए समझाने का प्रयास कर रहे हैं। लॉकडाउन चल रहा है, इसलिए आनलाइन स्वदेशी मेला अभियान लगातार चला रहे हैं। मेले के माध्यम से स्वदेशी सामान के फायदे बताए जा रहे हैं। आनलाइन हम बच्चों को भी इस अभियान से जोड़ा जा रहा है। बाद में बच्चों का आनलाइन टेस्ट भी लेते हैं, जिसमें पता लगाते हैं कि बच्चों को स्वदेशी से संबंधित जानकारी हुई कि नहीं।
मोबाइल एवं मोबाइल उपकरण विक्रेताओं का कहना है कि रोहतक में मोबाइल व उनके उपकरण दिल्ली से मंगाए जाते हैं। मोदी ने जो आह्वान किया था उसका हम स्वागत करते हैं, लेकिन हमारा एक सुझाव है। जब तक मोबाइल और मोबाइल के उपकरण हमारे देश-प्रदेश में निर्मित नहीं होंगे तब तक चीन हमारे बाजारों पर हावी रहेगा।  खिलौने एवं गिफ्ट विक्रेताओं का कहना है कि रोहतक में बड़े 10 डिस्ट्रीब्यूटर हैं, जो चीन से आने वाले इंडोर गेम से संबंधित और खिलौनों की सप्लाई से जुड़े हुए हैं। माल सप्लाई वाले करीब 20 कारोबारी हैं। मार्केट में खिलौने और खेल से संबंधित उपकरण गायब हैं। नए आर्डर लेने के लिए डिस्ट्रीब्यूटर बार-बार बात को टाल रहे हैं। यह भी स्पष्ट नहीं बता रहे कि रेट घटाएंगे या बढ़ाएंगे। चाइनीज सामान बिक्री की सबसे बड़ी वजह यही है कि ग्राहक सस्ता और आकर्षक सामान देखता है, लेकिन भारत के बाजारों में प्रतिस्पर्धा के अनुरूप सामान नहीं मिलता।




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here